Monday, July 8, 2013

खुदा खुद से ही खौफजदा था यारो

" तू कभी खुद आ मेरे पास तो तुझे खुदा कहूं ,
वरना खामखयाली में रखा क्या है ?
" ----राजीव चतुर्वेदी
==================
"अजीब सी रवायत है जरायम की दुनियाँ में ,
लोग सीरत नहीं सूरत छिपाए फिरते हैं
." ----राजीव चतुर्वेदी 
===================
"  खुदा खुद से ही खौफजदा था यारो ,
उसने ताउम्र अपनी सूरत छिपा कर रखी
." ----राजीव चतुर्वेदी
======================
"वह मजहब गिरोह जैसा  है ज़रा गौर करें ,
सरगना रूह्पोश और बन्दे नकाबपोश दहशतगर्द हैं काफी
." --- राजीव चतुर्वेदी 

     

2 comments:

Rohitas ghorela said...

" खुदा खुद से ही खौफजदा था यारो ,
उसने ताउम्र अपनी सूरत छिपा कर रखी ."

वाह जी वाह
पधारिये और बताईये  निशब्द

sushma 'आहुति' said...

खुबसूरत अभिवयक्ति....