Thursday, March 1, 2012

लेकिन समझ लो ऐ जयद्रथ वख्त का सूरज अभी डूबा नहीं है


"समंदर की सतह पर एक चिड़िया ढूंढती है प्यास को
अब तो जन - गण - मन  के देखो टूटते विश्वास को
वर्फ से कह दो जलते जंगलों की तबाही की गवाही तुम को देनी है
और कह दो साजिशों से सत्य का चन्दन रगड़ कर अपने माथे पर लगा लें
और जितना छल सको तुम छल भी लो
लेकिन समझ लो ऐ जयद्रथ वख्त का सूरज अभी डूबा नहीं है
एक भी आंसू हमारा आज तक सूखा नहीं है. " --- राजीव चतुर्वेदी

1 comment:

चन्दन भारत said...

आज कि स्थिति के लिए जबावदेह तत्वों को अच्छी चेतावनी|